इस ब्लॉग से मेरी अनुमति के बिना

कोई भी रचना कहीं पर भी प्रकाशित न करें।

समर्थक

हँसना सीखा दिया रोना सीखा दिया
प्यार ने तेरे ख्वाबों में जीना सीखा दिया।
बाद मुद्दत के ऐसा कोई शख्स मिला
पत्थर को पिघलना सीखा दिया।
गमो खुशी में तलाशते हैं वही कांधा जिसने
करवटों में शब बीताना सीखा दिया।
दिलाज़ार की गुस्ताखी कैसे भूले कोई
आग में जो बेखौफ़ कूदना सीखा दिया।
कोरी थी जीवन की किताब यह
प्यार ने उसके रंग भरना सीखा दिया।

Post a Comment

LinkWithin