इस ब्लॉग से मेरी अनुमति के बिना

कोई भी रचना कहीं पर भी प्रकाशित न करें।

समर्थक


लहरों की कहानी 


सागर की बेशुमार जलराशि में 
लहर बनकर जीता हूँ 
दिन - रात की जद्दोजहद में 
ज़रा न शिकन लाता हूँ ।
चाँद छूने की जहमत में 
उठ -उठ कर गिरता हूँ 
बेमिशाल इस प्यार में 
हर रात पागल कहलाता हूँ ।
उठती है जब तूफां दिल में 
आक्रोश तट पे निकालता हूँ 
कितने ही जनजीवन चपेट में 
अनायास ही ले लेता हूँ ।
प्रौढ़ नदियों की थकान में 
मिलनसुख की तड़प है 
नभ के निहुरते सूनेपन में 
मेरे आलिंगन की ललक है ।
आरज़ू है दिल के कोने में 
काश चाँद आकर बस जाता 
क्षितिज की लालिमा में 
अक्स हमारा दिख जाता ।
प्रेम की अधूरी अभिलाषा में 
जीवन सर्वस्व लुटाया हूँ 
परपीड़ा भर अपनी झोली में 
कलंक खारा का पाया हूँ ।

रविकर फैजाबादी  – (5 July 2012 at 05:49)  

यह है शुक्रवार की खबर ।

उत्कृष्ट प्रस्तुति चर्चा मंच पर ।।

रविकर फैजाबादी  – (6 July 2012 at 00:17)  

चर्चा मंच पर है यह टिप्पणी -

कविता करे विकास नित, कवि के मन की चाह |
शीतल चन्दा चांदनी, मिले आस को राह ||

कविता विकास  – (6 July 2012 at 01:03)  

ravikarji aur sushil ji ko mera sadar dhanywaad

Rajesh Kumari  – (6 July 2012 at 10:14)  

सागर का बिम्ब बहुत ही खूबसूरत लगा कविता में बहुत खूब

Post a Comment

LinkWithin