इस ब्लॉग से मेरी अनुमति के बिना

कोई भी रचना कहीं पर भी प्रकाशित न करें।

समर्थक

" .......उड़ने की इच्छा हुई" (कविता विकास)

आशाओं के पंख लगा कर
क्षितिज पर उगते सूरज की
 लालिमा में डूबने की इच्छा हुई
आज फिर उड़ने की इच्छा हुई ।


वाष्प में परिणत होकर
 नभ में तैरते पयोद की
 कालिमा में घुसने की इच्छा हुई 
आज फिर उड़ने की इच्छा हुई ।


फूलों के सुर्ख रंग चुराकर
फुनगी पर लगे कोपलों की
सम्वृद्धि में खोने की इच्छा हुई 
आज फिर उड़ने की इच्छा हुई ।


चंद लम्हे व्यस्त घंटों से निकालकर
कुछ उनकी पीड़ा ,कुछ खुशियों की
परिधि में विचरने की इच्छा हुई ।
आज फिर उड़ने की इच्छा हुई ।  

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  – (7 December 2011 at 18:34)  

जाल जगत पर आपका स्वागत है।
आपने बहुत सुन्दर रचना लिखी है।
निरन्तर लिखती रहिए!
--
शब्दपुष्टीकरण का विकल्प टिप्पणी बाक्स से हटा दीजिए ना।
आपके ब्लॉग का हैडर भी साधारण सा ही है। यदि मेरी सहायता की आवश्यकता हो तो निःसंकेच बताइए। मेरा सम्पर्क नम्बर आपको मेरी फेसबुक की प्रोफाइल पर मिल जाएगा।

kavita vikas  – (12 December 2011 at 04:52)  

i will follow what you said. thank you.

Post a Comment

LinkWithin