इस ब्लॉग से मेरी अनुमति के बिना

कोई भी रचना कहीं पर भी प्रकाशित न करें।

बदलते रिश्ते


हमराही बन चलते -चलते रिश्ते बदल जाते हैं
जाने कब अज़ीज़  भी अजनबी  बन जाते हैं ।
शिकवाओं की फेहरिस्त बनाना हमने छोड़ दिया
दरकती हुई चट्टान को संभालना सीख लिया ।

खिलौनों की कीमत जो कौड़ियों में आँकता है
उसे नहीं पता ,खिलौनों में भी दिल धड़कता है ।
दिल के टूटने की गर आवाज़ होती
वज्रपात की विध्वंशता तब दिखाई देती ।

जीवन के दोराहे पर कोई नहीं साथ मेरे
 मेरा साया है सुख - दुःख में साथ मेरे ।
वक़्त की मांग पर वह भी घटता- बढ़ता है
 रात घिरते ही साथ छोड़ बेवफा हो जाता है ।

किसका एतबार करूँ फरेबी हैं सब यहाँ
तुम व्यूह रचाते जाओ ,मैं अभिमन्यु यहाँ ।
मेरी इंतहा लेते- लेते  फौलाद बना दिया तुमने
ऋणी हूँ कि व्यूह भेदन के योग्य बना दिया तुमने ।

expression  – (13 April 2012 at 10:20)  

बहुत सुंदर!!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  – (14 April 2012 at 02:51)  

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!
--
संविधान निर्माता बाबा सहिब भीमराव अम्बेदकर के जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ-
आपका-
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

M VERMA  – (15 April 2012 at 05:13)  

सुंदर रचना
पर पठन में मुश्किल हो रही है पंक्तियाँ एक दुसरे पर चढी हुई हैं.

रचना दीक्षित  – (15 April 2012 at 06:57)  

किसका एतबार करूँ फरेबी हैं सब यहाँ
तुम व्यूह रचाते जाओ ,मैं अभिमन्यु यहाँ ।
मेरी इंतहा लेते- लेते फौलाद बना दिया तुमने
ऋणी हूँ कि व्यूह भेदन के योग्य बना दिया तुमने ।

अनुभवों की तपन बहुत कुछ सिखा देती है.

सुंदर भावपूर्ण रचना.

Post a Comment

LinkWithin